कुत्ते भोकते रहते है, हाथी अपना काम करता रहता है…

जब मैं बहुत छोटा था तब मेरी माँ कहा कहती थी की बेटा “ कुत्ते भोकते रहते है, हाथी अपना काम करता रहता है”. कई सालो तक यह बात समझ नहीं पाया. ठीक तरह से तो तारीख याद नहीं पर सन २००३ की उस रात के तक़रीबन ११ बजे मुझे मेरी माँ की कही हुई … Continue reading कुत्ते भोकते रहते है, हाथी अपना काम करता रहता है…

मन की सुने या दिल की!

  Facebook के एक ग्रुप पर जब मैं कुछ पढ़ रहा था तो, मैं एक post पर आ कर रुक गया और वह था  "Mind says Move On and Heart says Hold On" संजोग से उन दिनों मैं उसी विषय पर लिख रहा था. उस विषय पर तक़रीबन ८० से १०० लोगो ने अपनी-अपनी राय … Continue reading मन की सुने या दिल की!

Decomposition of Bad Habits

Decomposition of Negativity-बुरी आदतों के अपघटन  यह लेख(post) थोडा लंबा लिखा गया है पर यही इसकी जरूरत भी है आप इसे पूरा जरूर पढ़िए आप को आनंद प्राप्त होगा और आपको सिख और समझ भी मिलेगी. किसी ने सच ही कहा है की “ हमे वैसे ही लोग मिलते है जैसा हम खुद होते है … Continue reading Decomposition of Bad Habits

अलीबाबा और चालीस ऊंट !

बात सन २००१ की है...सुबह ३ बजे तक नींद नहीं आई, तब राहुल उठ कर hallमैं आ गया और सुबह ५ बजे तकhallमैं बेठा बेठा सोच रहा था. वजह थी चिंता और परेशानी. तभी राहुल के पापा अपने रूम से बाहर आये और उन्होंने पूछा. क्या बात है बेटा ८ बजे उठने वाला सुबह ५ … Continue reading अलीबाबा और चालीस ऊंट !

भविष्य (कल) के परिणाम और ख़ुशी v/s वर्तमान (आज) की दिनचर्या और आदते !

किसी ने सच ही कहा है की " हमारा भविष्य हमारी वर्तमान की आदतों से जुड़ा हुआ  है" हम आज जो भी है या आज जो कुछ भी हमारे पास है वो  हमारी अतित की  अछी या बुरी आदतों के बदोलत या वजह से  है. जो विचार हम दिन भर मैं प्राप्त करते है और … Continue reading भविष्य (कल) के परिणाम और ख़ुशी v/s वर्तमान (आज) की दिनचर्या और आदते !

देना और लेना; ना की लेना और देना!

कुछ पाने से पहले कुछ देना पड़ता है तब कुछ प्राप्त होता है रविवार को साईं सत्चारिता का अध्याय १४ पढ  रहा था . तो मेरे मन मैं विचार आया की इस अध्याय की कुछ बाते मैं आपके साथ बाटू. जीवन को बेहतर ढंग / तरीके से जीने के लिए कई अछी बाते इस अध्याय … Continue reading देना और लेना; ना की लेना और देना!